Dhanteras 2018, महत्व, शुभ मुहूर्त, इस वस्तु की अवश्य करें खरीदारी ~ Gyanbest, Cricket news, SEO technology

Dhanteras 2018, महत्व, शुभ मुहूर्त, इस वस्तु की अवश्य करें खरीदारी

Dhanteras 2018

Dhanteras 2018 इस बार 5 November 2018 को मनाया जा रहा है | इस blog post में हम इसका महत्व, इससे जुडी कथाएँ, पूजा तथा खरीदारी का शुभ मुहूर्त जानेंगे | पूजा विधि तथा उस वस्तु के बारे में जानेंगे जिसे इस अवसर पर खरीदने से अत्यधिक लाभ होनेवाला है |

नमस्कार दोस्तों मैं Gyan Ranjan इस ब्लॉग पर आपका स्वागत करता हूँ जहाँ आप Festivals, Cricket highlight, Special news, Heart touching story तथा SEO से सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए आते हैं | इस पोस्ट में धनतेरस 2018 से सम्बंधित जानकारी को शेयर करने जा रहा हूँ |

महत्व, शुभ मुहूर्त, इस वस्तु की अवश्य करें खरीदारी 

Dhanteras 2018, महत्व

दोस्तों हमारे हिन्दू धर्म में वैसे तो सभी पर्व का अपना-अपना महत्व है | हम सभी पर्वों को बहुत श्रद्धा और भक्ति के साथ मानते हैं | लेकिन Dhanteras Dipawali का अपना अलग ही महत्व है | इस पर्व का सम्बन्ध स्वास्थ्य और समृद्धि से है | इस पर्व को हम महान आयुर्वेद विशेषज्ञ धन्वंतरि के जन्मोत्सव के रूप में भी मानते हैं | इस दिन धन के देवता कुबेर तथा माता लक्ष्मी की आराधना की जाती है | दीपावली से दो दिन पहले त्रयोदसी को मनाये जानेवाले इस पर्व को धनत्रयोदशी भी कहा जाता है | ऐसा मानना है की जो भी इस इस तिथि के शुभ मुहूर्त में पूजा करता है और बहुमूल्य धातुओं तथा वस्तुओं की खरीदारी करता है उसकी दिन दुनि रात चौगुनी समृद्धि होती है |

धनतेरस 2018, कथाएं

इस पर्व से जुडी अनेक कथाएं है जिससे इस पर्व के महत्व का पता चलता है | उसीमे से एक कथा प्रस्तुत कर रहा हूँ -
एक राजा के घर शिशु ने जन्म लिया | ज्योतिषियों ने कुंडली देखने के बाद कहा की शादी के ४थे दिन ही इस बालक की मृत्यु सर्पदंश से हो जाएगी | राजा ने बहुत प्रयास किया की उस लड़के की शादी न हो परन्तु नियति को तो कुछ और ही मंजूर था | सभी बातों का पता होने के बावजूद एक सर्वगुण संपन्न लड़की ने उससे शादी कर ली | शादी के चौथे दिन त्रयोदशी था | उस राजकुमार की पत्नी ने रात्रि के समय सभी द्वार पर दीपक जला दिए | चमकदार धातुओं तथा रत्नो जैसे सोना, चंडी, हीरा, जवाहरात आदि को शयनकक्ष के द्वार पर रखकर भजन गाने लगी | काल जब सर्प रूप में आया तो दीपक तथा धातुओं से प्रत्यावर्तित प्रकाश से उसकी आँखे चौंधिया गयी और वह घर में प्रवेश नहीं कर पाया | इस प्रकार उस राजकुमारी ने अपनी समझदारी और बुद्धिमत्ता से अपने पति की जान बचायी | इसलिए धनतेरस के समय रात्रिकाल में घर के मुख्य द्वार पर दक्षिण दिशा की तरफ मुख करके दीपक जलाया जाता ही | साथ ही बहुमूल्य तथा चमकदार धातुओं और रत्नो की खरीदारी की जाती है |

धनतेरस 2018, शुभ मुहूर्त 

इस बार संध्या ६;२० से रात्रि ८;०९ बजे तक पूजा के लिए सबसे अच्छा मुहूर्त है |

धनतेरस 2018, इन  वस्तुओं की कर सकते हैं खरीदारी

इस बार धनतेरस के शुभ अवसर पर बहुमूल्य धातुओं तथा इलेक्ट्रॉनिक्स की खरीदारी के साथ-साथ धनिये के बीज को खरीदकर घर लाएं | इससे घर में धन और सुख समृद्धि की वृद्धि होगी |

पूजा विधि 

अक्षद, मुद्रा, पीले पुष्पों, तथा गंगाजल के साथ शुभ मुहूर्त में कुबेर और माता लक्ष्मी की पूजा श्रद्धा और भक्ति के साथ करें |

Special day

How to celebrate Mother's day

How to celebrate Father's day

World environment day

World health day

World sleep day


Previous
Next Post »

3 komentar

Click here for komentar